Shop

Bapu Ki Gond Mein

25.00

Description

बापू की गोंद मै – नरायण देसाई

Bapu Ki Gond Mein – Narayan Desai

22 प्रकरणों की यह छोटी-सी पुस्तक गांधीजी के अनेक अनजाने अलौकिक गुणों पर प्रकाश डालती है। ‘मोहन और महादेव’  इस पुस्तक की दो विभूतियाँ हैं। ‘हरि-हर’ की तरह उनका विभूतिमत्व अविभाज्य है। अनेक घटनाओं और प्रसंगों के कारण चित्रण में नारायणभाई ने उस विभूतिमत्व की जो झाँकियाँ दिखायी हैं, वे नितान्त मनोज्ञ हैं।

पृष्ठ : 132
आकार 
: क्राउन

Additional information

Weight 50 g

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Bapu Ki Gond Mein”

Your email address will not be published. Required fields are marked *

X
×

Hello!

Click one of our representatives below to chat on WhatsApp or send us an email to info@sssprakashan.com

× How can I help you?